सर्वाइकल का रामबाण उपचार | Cervical ka Gharelu Ilaj

सर्वाइकल का रामबाण उपचार – सर्वाइकल पेन हड्डियों से जुड़ी समस्या है, जिसके कारण व्यक्ति को कंधे, गर्दन आदि में असहनी दर्द होता है। सर्वाइकल पेन ज्यादातर अधिक उम्र के लोगो को होता है लेकिन आजकल की गलत खान-पान और अनियमित दिनचर्या के कारण छोटे-छोटे बच्चों में भी देखने को मिलता है।

सर्वाइकल का रामबाण उपचार करने के लिए घरेलू इलाज किये जा सकते है। आज के इस पोस्ट में हमें विस्तार से जानेगे कि सर्वाइकल का है और सर्वाइकल का रामबाण उपचार और घरेलू नुख्से कौन-कौन से हैं।

सर्वाइकल पेन क्या है (What is Cervical Pain in Hindi)

सर्वाइकल का रामबाण उपचार

हमारे शरीर में गर्दन की हड्डी सबसे ज़्यादा काम करने वाली हड्डियों में से एक है। जब इस हड्डी में कोई विकार उत्पन्न होता है जिससे दर्द और सूजन होती है तो इसे सर्वाइकल पेन कहा जाता है। सर्वाइकल पेन महिला और पुरुष दोनों को प्रभावित कर सकता है। आमतौर पर सर्वाइकल की समस्या 40 वर्ष से अधिक उम्र के लोगो में होती है।

सर्वाइकल दर्द होने के अलग-अलग स्तर हैं। यानी किसी को यह दर्द हल्का और किसी को यह दर्द बहुत असहनीय होता है। सर्वाइकल पेन का निवारण करने के लिए कई सारे तरीके हैं जैसे व्यायाम, दवाइयाँ और घरेलू उपचार। आगे इस पोस्ट में हम सर्वाइकल का रामबाण उपचार से संबंधित सभी चीजों के बारे में विस्तार से जानेंगे।

सर्वाइकल के कारण (Causes of Cervical in Hindi)

सर्वाइकल पेन होने के कई कारण हो सकते हैं जैसे –

  • गर्दन को ज्यादा समय तक झुकाये रखने से।
  • एक ही पोजीशन में लम्बे समय तक बैठे रहने से।
  • गर्दन या रीढ़ की हड्डी में चोट के कारण।
  • भारी वजन को सिर पर उठाने से।
  • गलत तरके से उठने, बैठने और सोने के कारण।

सर्वाइकल के लक्षण (Symptoms of Cervical in Hindi)

सर्वाइकल पेन के लक्षण शुरू से ही दिखाई देने लगते हैं, अगर आपको नीचे बताये गए निम्न लक्षण दिख रहे हैं तो तुरंत इसक इलाज करवाना चाहिए।

  • गर्दन में अकड़न होना।
  • सिर के पिछले हिस्से में दर्द होना।
  • कंधें और बाहों में झुनझुनी या सुन्न होना।
  • छींकते-खाँसते, उठते-बैठते समय गर्दन में दर्द होना।
  • मांसपेशियों में ऐंठन होना।

सर्वाइकल का रामबाण उपचार (Cervical Ka Gharelu Ilaj)

सर्वाइकल पेन का इलाज जितना जल्दी हो सके, उतना जल्दी करना चाहिए। अगर समय रहते सर्वाइकल का इलाज न किया जाए तो यह गंभीर रूप ले सकता है। सर्वाइकल का रामबाण उपचार करने के लिए कई घरेलू तरीके अपना सकते हैं।

(1) हल्दी का प्रयोग

हल्दी एक प्रकार की औषधीय है जो दर्द निवारण के रूप में काम करती है। सर्वाइकल का रामबाण उपचार करने के लिए रात में सोने से पहले एक गिलासदूध में एक चम्मच हल्दी पावडर मिलकर गर्म करें।

अब इसे हल्का ठंडा होने के बाद 1 चम्मच शहद मिलाकर इसका सेवन करें। ऐसा करने से सर्वाइकल दर्द तो दूर होगा ही साथ ही शरीर में ब्लड सर्कुलेशन भी तरह से होगा।

(2) लहसुन का प्रयोग

सर्वाइकल का रामबाण उपचार करने के लिए लहसुन का इस्तेमाल किया जा सकता है। लहसुन में कैल्शियम, फॉस्फोरस, लौह तत्व, विटामिन सी जैसे अन्य तत्व पाए जाते हैं जो सर्वाइकल दर्द से छुटकारा दिलाने में कारगर होते हैं। इसके लिए आप सरसों के तेल में 4-5 लहसुन की कली डालकर गर्म करे।

इसके बाद इस मिश्रण को छन्नी से छान लें। अब इस तेल से दर्द वाली जगह पर मालिश करें। इसके अलावा आप रोजाना सुबह लहसुन की 2 कली भूनकर सेवन कर सकते हैं।

(3) तिल का तेल है फायदेमंद

तिल का तेल हड्डियों के साथ-साथ तिल पूरे शरीर के लिए बहुत लाभदायक होता है। सर्वाइकल का रामबाण उपचार करने के लिए तिल के तेल को हल्का गुनगुना करके इससे प्रतिदिन दिन में दो बार दर्द वाली जगह पर मालिश करें। इसके अलावा इसके लिए भुने हुए तिल को गुड़ की चाशनी में लपेटकर लड्डू बनाकर भी खा सकते हैं।

(4) गर्दन की सिंकाई

सर्वाइकल पेन से तुरंत राहत पाने के लिए गर्दन की सिंकाई करना चाहिए। यह एक सबसे अच्छा और प्रभावशाली तरीका है। इसके लिए सबसे पहले एक लीटर पानी में आधा चम्मच नमक मिलाकर उबाल लीजिये।

अब इस गुनगुने पानी को किसी कांच की बोतल में भर लीजिये और दर्द वाली जगह पर सिंकाई करें। इसके अलावा इस गुनगुने पानी में कोई कपड़ा भिगोकर भी सिकाई कर सकते हैं।

(5) योगा और एक्सरसाइज करें

सर्वाइकल पेन से छुटकारा पाने के लिए आपको रोजाना योगा और एक्सरसाइज कीजिए। इससे न सिर आपका सर्वाइकल पेन कम होगा बल्कि आपकी पूरी बॉडी फिट और हेल्दी रहेगी। इसके लिए लिए आप सूर्यनमस्कार, भुजांगासन और व्रकासन कर सकते हैं। लेकिन ध्यान रहे कि ये सभी आसन किसी जानकर व्यक्ति के सामने या उसकी सलाह लेकर करें।

अन्य पढ़ें –

निष्कर्ष

मैं आशा करता हूँ कि आपको यह पोस्ट सर्वाइकल का रामबाण उपचार (Cervical ka Gharelu Ilaj) जरूर अच्छी लगी होगी। यह पोस्ट केवल सामान्य जानकारी पर आधारित है। इसलिए इस पर अमल करने से पहले किसी डॉक्टर या विशेषज्ञ की सलाह जरूर लें। यह ब्लॉग इस जानकारी के लिए ज़िम्मेदारी का दावा नहीं करता है।

Leave a Comment